मंगलवार, 4 अक्तूबर 2011

अभि-अनु ३ अक्तूबर २०११

अभिव्यक्ति के ३ अक्तूबर २०११ के अंक में पढ़ें रवीन्द्रनाथ ठाकुर की कहानी- विद्रोही, डॉ. अशोक गौतम का व्यंग्य- हाय रे मेरे भाग, मनोहर पुरी का आलेख- दसों पापों को हरने वाला दशहरा, शैलेन्द्र पांडेय के साथ पर्यटन- धनुषकोटि जहाँ राम ने सेतु बाँधा था, और मानोशी चैटर्जी के साथ- चंदनपुर की जगद्धात्री पूजा। इसके साथ ही इसके अतिरिक्त स्थायी स्तंभों में उत्सव के पकवान, इला प्रवीण की शिशुचर्या का ४०वाँ सप्ताह, अलका मिश्रा का आयुर्वेदिक सुझाव, ज्योतिषाचार्या संगीता पुरी से इस पक्ष का भविष्य फल, कंप्यूटर की कक्षा में नई जानकारी- साथ में- वर्ग पहेली, नवगीत की पाठशाला, तथा कीर्तीश का कार्टून के नए तेवर।
http://www.abhivyakti-hindi.org/1purane_ank/2011/10_03_11.html


अनुभूति के ३ अक्तूबर २०११ के अंक में पढ़ें- गीतों में प्रभु दयाल, अंजुमन में गिरिराजशरण अग्रवाल, छंदमुक्त में सुशीलकुमार आज़ाद और मुक्तक में मीना अग्रवाल की रचनाएँ।
http://www.anubhuti-hindi.org/1purane_ank/2011/10_03_11.html

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें