बुधवार, 10 अगस्त 2011

अभि-अनु १ अगस्त २०११

अभिव्यक्ति के १ अगस्त २०११ के अंक में पढ़ें पंकज सुबीर की कहानी- महुआ घटवारिन, स्नेह मधुर का व्यंग्य- मूँछ, नाक और मनोबल, प्रभात रंजन का आलेख- गोदान के प्रकाशन के ७५ साल, डॉ श्यामसुन्दर दीप्ति का दृष्टिकोण- पिता को वापस आना होगा और पर्यटक के साथ यात्रा में- नयनाभिराम नेपाल। इसके अतिरिक्त स्थायी स्तंभों में रसोईघर में आलू की टिक्की, अलका मिश्रा का आयुर्वेदिक सुझाव, घर परिवार में इला गौतम का अध्ययन शिशु का ३१वाँ सप्ताह और कंप्यूटर की कक्षा में नई जानकारी- साथ में- वर्ग पहेली, नवगीत की पाठशाला तथा कीर्तीश का कार्टून के नए तेवर।


अनुभूति के १ अगस्त २०११ के अंक में पढ़ें- गीतों में - अमिताभ त्रिपाठी, अंजुमन में- सुबोध श्रीवास्तव, छंदमुक्त में- अश्विन गाँधी, दोहों में- सत्यवान वर्मा सौरभ और पुनर्पाठ में- वसु मालवीय की रचनाएँ।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें