रविवार, 1 मई 2011

अभि-अनु १८ अप्रैल २०११

अभिव्यक्ति के १८ अप्रैल २०११ को प्रकाशित अंक में पढ़ें मनमोहन गुप्ता मोनी की कहानी जहाँ से चले थे, हीरालाल ठक्कर की लघुकथा- बच्चे, सुप्रसिद्ध गायिका जूथिका राय की आत्मकथा का अंश- आज भी याद आता है, जयप्रकाश मान का ललित निबंध- काग के भाग और पुनर्पाठ में हनुमान सरावगी का आलेख- लोक उद्धारक महावीर। इसके अतिरिक्त स्थायी स्तंभों में नए व्यंजन, इला प्रवीण की शिशुचर्या का सोलहवाँ सप्ताह, अलका मिश्रा का आयुर्वेदिक सुझाव, कंप्यूटर की कक्षा में नई जानकारी- साथ में- वर्ग पहेली, नवगीत की पाठशाला, तथा कीर्तीश का कार्टून के नए तेवर।
http://www.abhivyakti-hindi.org/1purane_ank/2011/04_18_11.html

अनुभूति के १८ अप्रैल २०११ को प्रकाशित अंक में पढ़ें- नवगीत की पाठशाला से चुनी हुई रचनाएँ, अंजुमन में- मदन मोहन अरविंद, छंदमुक्त में- प्रीत अरोड़ा, क्षणिकाओं में- ऋषभदेव शर्मा और पुनर्पाठ में साहिनी।
http://www.anubhuti-hindi.org/1purane_ank/2011/04_18_11.html

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें