मंगलवार, 3 मई 2011

अभि-अनु २ अप्रैल २०११


अभिव्यक्ति के २ मई २०११ को प्रकाशित अंक में पढ़ें इंदिरा दाँगी की कहानी करिश्मा ब्यूटी पार्लर, रतनचंद जैन का प्रेरक प्रसंग- स्वर्ग - नर्क की पात्रता, मेधा सेठ के शब्दों में- मराठी रंगमंच का विकास, डॉ. मनोज मिश्र की दृष्टि से- भारत का स्वास्थ्य पर्यटन और ओबामा की चिंता, पुनर्पाठ में दो पल के अंतर्गत- अश्विन गांधी का आलेख पहली रात। इसके अतिरिक्त स्थायी स्तंभों में नए व्यंजन, इला प्रवीण की शिशुचर्या का अठारहवाँ सप्ताह, अलका मिश्रा का आयुर्वेदिक सुझाव, कंप्यूटर की कक्षा में नई जानकारी- साथ में- वर्ग पहेली, नवगीत की पाठशाला, तथा कीर्तीश का कार्टून के नए तेवर। http://www.abhivyakti-hindi.org/1purane_ank/2011/05_02_11.html


अनुभूति के २ मई २०११ को प्रकाशित अंक में पढ़ें- गीतों में शशि पाधा, अंजुमन में- वीनस केसरी, छंदमुक्त में- अशोक कुमार पाण्डेय, मुक्तक में रामदरश मिश्र और पुनर्पाठ में सुकीर्ति गुप्ता। की रचनाएँhttp://www.anubhuti-hindi.org/1purane_ank/2011/05_02_11.html

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें